उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

उपचुनाव से पहले अग्निपथ स्कीम के विरोध में बलिया और वाराणसी समेत कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन

भारतीय जनता पार्टी का सिक्का इस बार के उपचुनाव में जमकर चला है। उपचुनाव से पहले अग्निपथ स्कीम को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हुए थे। जगह-जगह पर हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई थीं। इस बात से आशंका थी कि कहीं उपचुनाव में भाजपा को अग्निपथ के इस विरोध का खामियाजा न भुगतना पड़े। लेकिन उत्तर प्रदेश से त्रिपुरा तक उपचुनाव के नतीजे आने के साथ ही यह स्पष्ट हो गया कि यह हिंसक आंदोलन भाजपा के लिए अग्निपथ नहीं बन पाया।

बता दें कि लोकसभा उपचुनाव में उत्तर प्रदेश में भाजपा का मुकाबला सपा से था। दोनों सीटें ऐसी थीं, जहां समाजवादी पार्टी का वर्चस्व माना जाता है। एक तरफ रामपुर में आजम खान का गढ़ था तो दूसरी तरफ आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी काफी मजबूत मानी जाती है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मार्च में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा यहां पर एक भी सीट नहीं जीत पाई थी। हालांकि उपचुनाव से पहले अग्निपथ स्कीम के विरोध में बलिया और वाराणसी समेत कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुए थे। लेकिन आजमगढ़ और रामपुर के चुनावी नतीजे इससे बेअसर रहे।

Related Articles

Select Language »