टॉप न्यूज़देश

महाराष्ट्र में वैक्सीन की कमी पर संजय राउत का बड़ा बयान, कहा- ‘पूरे देश का ख्याल करें, सिर्फ गुजरात का नहीं’

कोरोना का संक्रमण देशभर में बढ़ता चला जा रहा है। वहीं अगर कोरोना संक्रमण से कोई सबसे अधिक प्रभावित है तो वह महाराष्ट्र है। यहाँ बीते कुछ दिनों से वैक्सीन की अत्यधिक कमी की खबरें सामने आई हैं।

केवल यही नहीं बल्कि कई वैक्सीन सेंटरों में वैक्सीन खत्म होने का बोर्ड लगाना पड़ा है। अब तक कई राज्यों के सरकारों ने यह आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार वैक्सीन उपलब्ध नहीं करवा रही है। बीते दिनों ही इस पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने अपनी प्रतिक्रिया दी थी। ऐसे में अब संजय राउत ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

आपको याद हो तो बीते दिनों ही एक इंटरव्यू में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा था, ‘हम राज्य स्तर पर वैक्सीन की उपलब्ध करवा रहे हैं। वैक्सीन को वैक्सीन सेंटर्स तक पहुंचाना राज्य की जिम्मेदारी है। अगर किसी राज्य ने वैक्सीन वितरण के लिए सही तरह से तैयारी नहीं की और इस वजह से वैक्सीन बर्बाद हो जा रही हैं। तो यह राज्य सरकार की नाकामी है। वैक्सीन वितरण में हमने कोई राजनीति नहीं की।’

अब इसी क्रम में शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत ने कहा कि, ‘ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन उपलब्ध करवाना केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है। पुणे में वैक्सीन की जरूरत थी तो आई ना, मुंबई में भी भेजिए।’ इसके अलावा संजय राऊत ने किसान नेता राजू शेट्टी की चेतावनी को भी याद दिलाया और कहा, ‘पूरी दुनिया को वैक्सीन पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट से भेजी जा रही है। लेकिन महाराष्ट्र के लोगों के लिए ही वैक्सीन नहीं है। राजू शेट्टी ने कहा है कि अगर एक हफ्ते में महाराष्ट्र के लोगों को वैक्सीन नहीं मिली तो वे एक भी ट्रक पुणे से बाहर नहीं जाने देंगे। अगर वे अपनी चेतावनी को अमल में ले आए तो सोचिए कैसी परिस्थिति पैदा हो जाएगी।’

इसके अलावा संजय राऊत ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए यह भी कहा कि, ‘जिन राज्यों को वैक्सीन चाहिए, जितनी चाहिए उतनी मिलनी चाहिए। सिर्फ गुजरात ही आपका नहीं है, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, झारखंड भी आपके ही हैं। पूरे देश का ख्याल कीजिए, सिर्फ गुजरात का नहीं। केंद्र लगातार स्वार्थी भूमिका निभा रहा है। संकट की घड़ी में राजनीति किसी को भी शोभा नहीं देती, ना हमको ना विपक्ष को। मिलकर राह तलाशनी होगी।’

Related Articles

Select Language »