उत्तर प्रदेश

यूपी : इतने अप्रैल तक बंद रहेंगे कक्षा एक से 12वीं तक के सभी स्कूल

यूपी में हर रोज रिकॉर्ड संख्या में बढ़ रहे कोरोना मरीजों को देखते हुए प्रदेश सरकार ने कक्षा एक से 12वीं तक के सभी स्कूल 30 अप्रैल तक के लिए बंद करने की घोषणा की है। हालांकि, जिन स्कूलों में परीक्षाएं चल रही हैं वहां परीक्षाएं चलती रहेंगी।

इस संबंध में प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी ने आदेश जारी करते हुए कहा कि कक्षा एक से 12वीं तक के सभी स्कूल बंद रहेंगे पर जिन स्कूलों में परीक्षा हो रही है। उन्हें परीक्षाएं पूरी करने तक का समय दिया जाएगा।

बता दें कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर प्रदेश में हर रोज नया रिकॉर्ड बना रही है। यूपी में पहली बार कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पांच अंकों में पहुंच गया है। शनिवार को 12,787 मरीज मिले। वहीं, 48 मरीजों की मौत हो गई। लखनऊ में भी एक दिन में सर्वाधिक मरीजों का नया रिकॉर्ड बना। यहां पहली बार 4 हजार के पार 4,059 संक्रमित मिले। राजधानी में कोरोना के चलते 23 लोगों ने दम तोड़ दिया।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अब तक 6,75,739 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से 6,08,863 संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। मरीजों के ठीक होने की दर घटकर 90 प्रतिशत हो गई है। अब तक 9085 मरीजों की मौत हो चुकी है। एक्टिव मरीजों की संख्या 58,801 हो गई है। उन्होंने बताया कि शुकवार को प्रदेश में 2,12,213 नमूनों की जांच की गई।
21 जिलों में 100 से ज्यादा केस
लखनऊ, 4059, प्रयागराज 1460, वाराणसी 983, कानपुर नगर 706, गोरखपुर 422, मेरठ 236, झांसी 235, गौतमबुद्ध नगर 221, बलिया 188, जौनपुर 186, मुजफ्फर नगर 161, गाजियाबद 159, बरेली 144, गाजीपुर 140, बाराबंकी 139, रायबरेली 127, मथुरा 123, बस्ती 117, सुल्तानपुर 106, आगरा 104, मिर्जापुर 101

तीन और जिलों में नाइट कर्फ्यू
संक्रमण को देखते हुए प्रदेश के तीन और जिलों गोरखपुर, जौनपुर व बलिया में रात्रि कर्फ्यू लगा दिया गया है। यह 18 अप्रैल तक रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक प्रभावी रहेगा।
लखनऊ में 2000 आईसीयू बेड तत्काल तैयार करने के निर्देश
राजधानी लखनऊ में भयावह स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में दो हजार आईसीयू बेड तत्काल तैयार करने के निर्देश दिए हैं। रविवार से बलरामपुर अस्पताल में 300 बेड पर मरीजों की भर्ती शुरू भी हो जाएगी। वहीं, एरा मेडिकल कॉलेज, टीएस मिश्रा मेडिकल कॉलेज, इंटीग्रल मेडिकल कॉलेज को पूर्ण डेडिकेटेड अस्पताल बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी ने शनिवार को लखनऊ में कोरोना की स्थिति को लेकर लोकभवन में उच्चस्तरीय बैठक में ये निर्देश दिए।

उन्होंने चिकित्सा शिक्षा मंत्री, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा, सचिव चिकित्सा शिक्षा को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाने वाले तीनों मेडिकल कॉलेजों व बलरामपुर चिकित्सालय में प्रशिक्षित मैनपावर के साथ ही वेंटिलेटर एवं हाई फ्लो नेजल कैजुला (एचएफएनसी) की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया।
राजधानी में व्यापक कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर जोर
सीएम ने लखनऊ में व्यापक कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर जोर दिया। कहा- संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाले 30 से 35 लोगों की कोविड जांच हो। इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को एंबुलेंस सेवाओं से जोड़ने का भी निर्देश दिया।

धर्म स्थल पर एक साथ सिर्फ पांच को प्रवेश
पुलिस आयुक्त लखनऊ को पब्लिक एड्रेस सिस्टम को प्रभावी ढंग से संचालित कराने के निर्देश दिए। कहा, धर्म स्थलों में पांच से अधिक लोगों को एक साथ प्रवेश न मिले। बाजारों में व्यापारियों से संवाद कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाए। मास्क का प्रयोग न करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें। कार्रवाई सद्भावपूर्ण एवं प्रेरक होनी चाहिए।
एक संक्रमित पर 25 मीटर का कंटेनमेंट जोन
एक संक्रमित मिलने पर 25 मीटर और इससे अधिक मिलने पर 50 मीटर के रेडियस में कंटेनमेंट जोन बनाने को कहा है। सभी पुलिस, स्वास्थ्य तथा स्वच्छता कर्मी आवश्यक रूप से मास्क और ग्लव्स का प्रयोग करें। कंटेनमेंट जोन में पीपीई किट का प्रयोग अनिवार्य रूप से किया जाए।

निगरानी समितियों को करें सक्रिय
सीएम ने निगरानी समितियों को सक्रिय करने का निर्देश दिया। उन्होंने मंडलायुक्त को बस स्टेशनों, रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट, चौराहों सहित भीड़-भाड़ वाले स्थानों की स्वच्छता, सैनिटाइजेशन तथा फॉगिंग कराने के निर्देश दिए।

Related Articles

Select Language »