उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

राष्ट्रपति चुनाव में सीएम योगी और भाजपा की रणनीति ने विपक्षी एकता को एक बार फिर तोड़ दिया

राष्ट्रपति चुनाव में सीएम योगी और भाजपा की रणनीति ने विपक्षी एकता को एक बार फिर तोड़ दिया है। सपा की मुहिम को बड़ा झटका दिया। सूबे में इस साल विधानसभा चुनावों से शुरू हुआ भाजपा का विजय अभियान लगातार जारी है। स्थानीय निकाय कोटे की विधान परिषद सीटें हों या राज्यसभा और एमएलसी चुनाव भाजपा हर मोर्चे पर सफल रही है। रामपुर और आजमगढ़ उपचुनावों की जीत ने जश्न की खुशी को दोगुना कर दिया।

मिशन-2024 की तैयारी में जुटी भाजपा अपना हर कदम फूंक-फूंककर रख रही है। लगातार जीत ने पार्टी के उत्साह में वृद्धि कर दी है। पहले विधानसभा चुनाव, फिर राज्यसभा, विधान परिषद की स्थानीय निकाय और अन्य सीटों के लिए हुए चुनावों में भाजपा ने जीत का परचम फहराया। यह पहला मौका है जब विधान परिषद में भाजपा का बोलबाला हो चुका है। राष्ट्रपति चुनाव में भी भगवा खेमे की रणनीति पूरी तरह सफल रही है। सबसे बड़ा झटका सत्ताधारी दल के खिलाफ विपक्षी एकता का ताना-बाना बुनने के प्रयास में जुटी समाजवादी पार्टी को लगा है।

द्रौपदी मुर्मू के एनडीए प्रत्याशी घोषित होते ही सबसे पहले बसपा प्रमुख मायावती ने उनके समर्थन का ऐलान किया था। आठ जुलाई को जब मुर्मू लखनऊ आईं तो उनके सम्मान में दिए रात्रि भोज में सपा के सहयोगी सुभासपा प्रमुख ओमप्रकाश राजभर को बुलाकर मुख्यमंत्री ने सपा को बड़ा झटका दे दिया था। सपा विधायक शिवपाल यादव इस चुनाव में भी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव को लगातार नसीहतें देते रहे। उन्होंने ऐलानिया क्रास वोटिंग तो की ही, कई अन्य विधायकों के भी अंतर्रात्मा की आवाज पर वोट करने की बात कहकर सपा में सेंधमारी की अटकलों को हवा दे दी।

Related Articles

Select Language »