उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने परलोकवासी होने के बाद दिया नया सियासी संदेश

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने परलोकवासी होने के बाद भी नया सियासी संदेश दिया है। उनकी अंतिम यात्रा ने क्षेत्रीय दलों की एकता का प्रस्थान बिंदु तय किया है जहां से लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी राह निकल रही है। दूसरी तरफ भाजपा और कांग्रेस को भी सोचने के लिए विवश कर दिया है। उनकी अंतिम यात्रा में हुए सियासी जमावड़े से इस बात का भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि उनका कद कितना विशाल था। इस कद केअनुरूप समाजवादी पार्टी को खड़े रहने की चुनौती भी स्वीकार करनी होगी।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव पंचतत्व में विहीन हो गए हैं। उन्हें करीब से जानने वाले कहते हैं कि नेताजी का कोई भी दांव अनायास नहीं रहा। उनके बयान हो अथवा अन्य गतिविधि उसके सियासी मायने होते रहे हैं। इसकी झलक मंगलवार को उनकी अंतिम यात्रा में भी दिखी। वह जाते- जाते एक बड़ी विरासत छोड़ गए हैं। यह विपक्षी एकता की विरासत है।

Related Articles

Select Language »