उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

यूपी की सियासत में हेट स्पीच के जरिये आजम खां पर लटक रही आजीवन कारावास की तलवार

यूपी की सियासत में हेट स्पीच के जरिये चर्चा में रहने वाले आजम खां को भले ही अभी तीन साल की सजा हुई है लेकिन उन पर अभी आजीवन कारावास की सजा की तलवार भी लटक रही है।

बेटे को विधायक बनाने की जद्दोजहद में उसकी उम्र बढ़ाने के फेर में फर्जी शपथपत्र का इस्तेमाल किया जाना आजम और उनके परिवार को महंगा पड़ सकता है। प्रमाणपत्र के लिए कूटरचना और उसकी साजिश करने के आरोप में नामजद आजम खां और उनकी पत्नी ऐसे आरोपों में फंसे हैं, जिनमें आजीवन कारवास या फिर 10 वर्ष तक की सजा का प्रावधान है।

दरअसल, अब्दुल्ला आज़म जो आज़म खां के बेटे हैं, उन्होंने स्वार विधानसभा से चुना लड़ा। वह वर्ष 2017 में 25 वर्ष के नहीं थे। भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने इस मामले में थाना गंज रामपुर में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

इसमें आकाश सक्सेना ने आरोप लगाए कि आज़म खां और उनकी पत्नी तंजीम फातिमा द्वारा बेटे अब्दुल्ला आज़म के दो फर्जी जन्म प्रमाणपत्र बनाए गए। पहला बर्थ सर्टिफिकेट रामपुर नगर निगम से बना था, जिसमें अब्दुल्ला की जन्म तिथि एक जनवरी 1993 दिखाई गई थी। इस जन्मतिथि के मुताबिक, वह वर्ष 2017 में विधानसभा का चुनाव लड़ने के लायक नहीं थे, उनकी उम्र महज़ 24 साल थी। नियमत उन्हें चुनाव लड़ने के लिए उम्र 25 वर्ष होनी चाहिए।

Related Articles

Select Language »