कारोबारटेक्नॉलजीस्पोर्ट्स

टाटा समूह ने आईपीएल स्पॉन्सरशिप से चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो को हटा दिया

भारत के सबसे बड़े बिजनेस हाउस में से एक टाटा समूह ने आईपीएल स्पॉन्सरशिप से चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो को हटा दिया है। आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक में इस फैसले पर अंतिम मुहर लगी। टाटा ग्रुप आईपीएल इतिहास की पांचवीं स्पॉन्सर होगी। वीवो ने 2018 से 2022 सीजन तक के लिए स्पॉन्सरशिप का अधिकार 2200 करोड़ रुपये में खरीदा था।


2020 में भारत और चीनी आर्मी के बीच झड़प के बाद वीवो की जगह ड्रीम11 को स्पॉन्सर बनाया गया। 2021 में वीवो की वापसी हुई। कंपनी उस समय भी इस अधिकार को ट्रांसफर करना चाहती थी, लेकिन कोई उपयुक्त कंपनी नहीं मिली थी। इस बार वीवो को वह अवसर प्राप्त हो गया। उसने टाटा के हाथों अधिकार बेच दिए। बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा, “यह जल्दी या बाद में होने वाला था क्योंकि वीवो की उपस्थिति लीग के साथ-साथ कंपनी दोनों के लिए खराब प्रचार ला रही थी। चीनी उत्पादों के प्रति देश में नकारात्मक भावना के बाद कंपनी को बाहर होना पड़ा। उसके पास एक सीजन बाकी भी था, लेकिन इसे पूरा करना मुश्किल हो गया था।”

Related Articles

Select Language »