टेक्नॉलजी

सिडनी वैज्ञानिकों का दावा: इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का जीवनकाल लंबा कर देगी यह तकनीक

सिडनी विश्वविद्यालय के अनुसंधान वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जो इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के जीवनकाल को लंबा कर देगी।

यह सामग्री विज्ञान के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, जो पहली बार फेरोइलेक्ट्रिक सामग्री में थकान की घटना की पूरी तस्वीर प्रदान करता है। फेरोइलेक्ट्रिक सामग्रियों का उपयोग कई उपकरणों में किया जाता है, जिसमें यादें, कैपेसिटर, एक्चुएटर और सेंसर शामिल हैं। 

वही इन उपकरणों का उपयोग आमतौर पर उपभोक्ता और औद्योगिक उपकरण, जैसे कंप्यूटर, मेडिकल अल्ट्रासाउंड उपकरण और पानी के नीचे सोनार दोनों में किया जाता है। समय के साथ, फेरोइलेक्ट्रिक सामग्रियों को बार-बार यांत्रिक और विद्युत लोडिंग के अधीन किया जाता है, जिससे उनकी कार्यक्षमता में प्रगतिशील कमी आती है, जिसके परिणामस्वरूप अंततः विफलता होती है। इस प्रक्रिया को ‘फेरोइलेक्ट्रिक थकान’ के रूप में जाना जाता है। 

यह इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की एक श्रृंखला की विफलता का मुख्य कारण है, त्यागने वाले इलेक्ट्रॉनिक्स ई-कचरे में अग्रणी योगदानकर्ता हैं। विश्व स्तर पर, हर साल दसियों लाख टन विफल इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लैंडफिल में जाते हैं। खोज एक महत्वपूर्ण वैज्ञानिक सफलता है क्योंकि यह एक स्पष्ट तस्वीर दिखाती है कि नैनोस्केल में फेरोइलेक्ट्रिक क्षरण प्रक्रिया कैसे मौजूद है।

Related Articles

Select Language »