मनोरंजन

दमदार हीरोइन की शिद्दत से तलाश कर रहे करण जौहर, इस साउथ की सुपरस्टार पर लगाया दांव

नौ साल पहले फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ से निर्माता निर्देशक महेश भट्ट की बेटी आलिया को सुपरस्टार बनाने वाले करण जौहर को इन दिनों एक नई हीरोइन की शिद्दत से तलाश है।

कहने को तो वह फिल्म ‘बुलबुल’ की हीरोइन तृप्ति डिमरी और अभिनेता संजय कपूर की बेटी शनाया को अपनी कंपनी धर्मा एंटरटेनमेंट के लिए साइन कर चुके हैं। लेकिन, उनके कैंप में साउथ की एक सुपरस्टार की लेटेस्ट एंट्री होने से उनके कैंप की बाकी हीरोइनों के होश उड़े हुए हैं।

फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ में आलिया को लॉन्च करने के बाद करण जौहर ने फिल्म ‘गिप्पी’ में रिया विज और फिल्म ‘उंगली’ में कंगना रणौत पर भी दांव लगाया लेकिन मामला उनका घूम फिरकर आलिया भट्ट पर ही आता रहा। पिछले नौ साल में वह आलिया भट्ट के साथ ‘2 स्टेट्स’, ‘हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया’, ‘शानदार’, ‘कपूर एंड संस’, ‘डियर जिंदगी’, ‘बदरीनाथ की दुल्हनिया’, ‘राजी’, और ‘कलंक’ बना चुके हैं। आलिया की धर्मा प्रोडक्शंस के बैनर तले बनी ‘ब्रह्मास्त्र’ भी पिछले तीन साल से निर्माणाधीन है।

फिल्म ‘कलंक’ के फ्लॉप होने और फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ की रिलीज को लेकर बार बार आ रही अड़चनों के बीच आलिया की एक फिल्म ‘सड़क 2’ भी सुपरफ्लॉप हो चुकी है। करण ने कियारा आडवाणी पर भी दांव लगाया हुआ है, लेकिन उनकी अब तक की सारी ब्रांडिंग पर फिल्म ‘इंदु की जवानी’ ने पानी फेर दिया। करण जौहर खेमे में इन दिनों हीरोइनों का जबरदस्त अकाल है और उनकी फिल्मावली ‘अजीब दास्तान्स’ से भी कोई अच्छा नतीजा हासिल होता नहीं दिख रहा।

करण जौहर ने हाल ही में नए चेहरों को अपनी फिल्मों, वेब सीरीज और डिजिटल उत्पादों में लॉन्च करने की एक बड़ी योजना का एलान किया है। धर्मा कॉर्नरस्टोन एजेंसी (डीसीए) बनाकर वह तृप्ति डिमरी, गुरफतेह पीरजादा, धैर्य करवा, लक्ष्य और शनाया कपूर को अपने साथ शामिल भी कर चुके हैं। शनाया की पहली फिल्म इसी साल जुलाई में शुरू होने जा रही है। लेकिन, करण को एक और दमदार चेहरे की तलाश अब भी है।

सूत्र बताते हैं कि करण जौहर ने इसी के चलते साउथ की सुपरस्टार बन चुकीं अभिनेत्री तमन्ना भाटिया को भी डीसीए का आर्टिस्ट बना लिया है। तमन्ना अब आगे से वही हिंदी फिल्में करेंगी जो उनके लिए ये एजेंसी ओके करेगी। पैपराजी को तमन्ना के पीछे लगाकर सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया पर उनके लिए माहौल बनाने की शुरूआत हो चुकी है। डीसीए के मुखिया राजीव मसंद उनके लिए कहानियां सुनना शुरू कर चुके हैं। तमन्ना ने हिंदी फिल्मों से ही अपने करियर की शुरूआत की थी, उनकी पहली फिल्म ‘चांद सा रोशन चेहरा’ साल 2005 में रिलीज हुई थी।

Related Articles

Select Language »