टॉप न्यूज़विदेश

चीन से इस संकट से निकलने के लिए मदद मांग रहा श्रीलंका

एशिया से लेकर अफ्रीका तक, जितना हो सका चीन ने उतने ही देशों को अपने कर्ज जाल की नीति का शिकार बनाया. वो लालच देकर शुरुआत में कर्ज देता है और जब दूसरा देश उसे लौटाने में सक्षम नहीं होता, तो चीन अपने असल मकसद को पूरा कर उस देश के बंदरगाहों और हवाईअड्डों पर या तो कब्जा कर लेता है या फिर वहां अपना सैन्य अड्डा ही बना लेता है . श्रीलंका चीन का ताजा शिकार बना है. श्रीलंका इस कदर कर्ज जाल में फंस गया है कि उसे चीन से इस संकट से निकलने के लिए मदद मांगनी पड़ी है.

चीन के कर्जजाल में बुरी तरह से फंसे श्रीलंका ने ड्रैगन से ऋण को पुनर्गठित करने में मदद करने का आह्वान किया है. चीन के विदेश मंत्री वांग यी की श्रीलंका यात्रा के दौरान राष्‍ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने यह मदद मांगी. श्रीलंका ने बेहद ज्‍यादा ब्‍याज दर पर चीन से कर्ज लिया है और अब यह उसके लिए गले की फांस बन गया है. श्रीलंका को इस साल 1.5 से 2 अरब डॉलर चीन को लौटाना है. वह भी तब जब वह डॉलर के लिए तरस रहा है. इस बीच श्रीलंका के एक सांसद ने चीनी राष्‍ट्रपति को पत्र लिखकर देश में आर्थिक हमले को बंद करने के लिए कहा है.

Related Articles

Select Language »