टॉप न्यूज़दिल्ली

#LadengeCoronaSe : IIT दिल्ली ने बनाया नैनोशॉट स्प्रे, इतने दिन तक वायरस से रखेगा सुरक्षित

वैश्विक महामारी कोविड-19 की दूसरी लहर ने सांसों को आफत में डाल दिया है। ऐसे में इस बहरूपिये वायरस से बचाव बेहद जरूरी है। वायरस से बचाव के लिए आईआईटी के स्टार्टअप में नैनोशॉट स्प्रे बनाया गया है।  बहुउद्देशीय कार्बनिक हाइब्रिड सरफेस कीटाणुनाशक स्प्रे 96 घंटे तक असरदार रहता है। 30 सेकंड के अंदर ही बैक्टीरिया और वायरस को मारना शुरू कर देता है। 

तकनीकी विशेषज्ञों का दावा है कि यह स्प्रे 10 मिनट में 99 फीसदी रोगाणुओं को मारने की क्षमता रखता है। इसका प्रयोग फर्श, कपड़े और बर्तन को छोड़कर सभी जगह किया जा सकता है। आईआईटी दिल्ली के स्टार्टअप रामाजा जेनोसेंसर ने इस नैनोशॉट स्प्रे को तैयार किया है। रमजा जेनोसेंसर की  संस्थापक डॉ. पूजा गोस्वामी कहती हैं कि जांच में पाया गया है कि स्प्रे सतह पर डालने के 30 सेकेंड के अंदर ही बैक्टीरिया और वायरस को मारना शुरू कर देता है। इस स्प्रे से सभी तरह के वायरस, बैक्टीरिया, कवक का अंत किया जा सकता है।

स्प्रे के प्रयोग से कोई जलन और एलर्जी नही होगी: 
प्रो. गोस्वामी के मुताबिक, इसमें किसी भी तरह का टॉक्सिक नहीं है। इसके प्रयोग से किसी भी तरह की कोई एलर्जी या चकत्ते या जलन नहीं होती है। इसे तीन अलग-अलग तरह के स्प्रे पैक में तैयार किया गया है। स्प्रे की खास बात ये है कि ये वायरस  और बैक्टीरिया को मारने के साथ जैविक और एल्कोहल फ्री भी है। 

इसका प्रयोग किताबों, लिफ्ट कंट्रोल पैनल, कार के डैशबोर्ड, टैबलेट, पर्स, सामान, माइक्रोवेव और अन्य उत्पादों पर वायरस से बचाव के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा रसोई के स्लैब, सोफे, डाइनिंग टेबल, फ्रिज की सतहों, मीटिंग यूप की कुर्सी, मेट्रो, बस, रेलवे, वॉशरूम, रेस्तरां, एयरपोर्ट जैसी जगहों पर किया जा सकता है. 

Related Articles

Select Language »