स्पोर्ट्स

IPL 2021: पहली जीत दर्ज करने के बाद लय हासिल करने पर होगी इन दोनों टीमों की निगाहें

तीन बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स अपनी पहली जीत दर्ज करने के बाद सोमवार को जब यहां इंडियन प्रीमियर लीग मुकाबले में एक दूसरे से भिड़ेंगी तो उनकी कोशिश इसी लय को जारी रखने की होगी। दोनों टीमों ने टूर्नामेंट के शुरूआती मुकाबले गंवाने के बाद वापसी करते हुए जीत हासिल की, हालांकि दोनों टीमों का प्रतिद्वंद्वियों को हराने का तरीका अलग अलग रहा।

महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाली चेन्नई सुपर किंग्स ने जहां पंजाब किंग्स के खिलाफ आसान जीत दर्ज की तो वहीं राजस्थान रॉयल्स ने अंतिम ओवर में जीत से दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ दो अंक जुटाये। दोनों टीमें अपने अभियान को आगे बढ़ाने के लिए दूसरी जीत दर्ज करना चाहेंगी। दिल्ली कैपिटल्स से शुरुआती मैच में सात विकेट की शिकस्त के बाद चेन्नई सुपर किंग्स ने दीपक चाहर के प्रदर्शन की बदौलत वापसी की। चाहर ने चार विकेट झटककर पंजाब किंग्स के बल्लेबाजी लाइन अप को झकझोर दिया जिससे टीम ने छह विकेट की जीत से खाता खोला।

कप्तान धोनी अपने गेंदबाजों के प्रदर्शन से खुश होंगे क्योंकि पहले मुकाबले में पृथ्वी शॉ और शिखर धवन ने उनके गेंदबाजों को धो दिया था। विशेषकर चाहर ने शानदार स्पैल डाला जिससे चेन्नई सुपर किंग्स अपनी प्रतिद्वंद्वी टीम को 106 रन के कम स्कोर पर रोकने में सफल रही, जिसके बाद उसके बल्लेबाजों ने आसानी से यह लक्ष्य हासिल कर लिया। अब टीम चाहेगी कि चाहर अपने अच्छे प्रदर्शन को जारी रखें और साथ ही उम्मीद करेगी कि सैम करन, शार्दुल ठाकुर और अन्य भी महत्वपूर्ण योगदान दें। वहीं दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी पृथकवास पूरा कर चुके हैं और उन्हें अंतिम एकादश में शामिल किया जा सकता है, जिससे चेन्नई सुपर किंग्स का तेज गेंदबाजी आक्रमण और पैना हो जायेगा।

इंग्लैंड के ऑलराउंडर मोईन अली पंजाब के खिलाफ जीत में अच्छी फार्म में थे और यह चेन्नई सुपर किंग्स के थिंक टैंक के लिए खुशी की बात होगी। उन्होंने अपनी ऑफ स्पिन से एक विकेट झटका और फिर अच्छी बल्लेबाजी की। फाफ डु प्लेसिस हालांकि अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं कर सके, लेकिन उन्होंने नाबाद 36 रन की पारी खेली और वह इससे बेहतर पारी खेलना चाहेंगे जबकि ऋतुराज गायकवाड़ और अंबाती रायुडू को आत्मविश्वास हासिल करने के लिए रन बनाने होंगे।

सुरेश रैना की मौजूदगी से निश्चित रूप से चेन्नई की बल्लेबाजी इकाई मजबूत होगी और आने वाले समय में उनकी फार्म अहम रहेगी। आईपीएल में वापसी में अर्धशतक लगाने के बाद वह भी बड़ा स्कोर खेलना चाहेंगे। धोनी पंजाब के खिलाफ बल्लेबाजी के लिए नहीं उतर सके थे जबकि पहले मैच में वह शून्य पर आउट हो गए थे। देखना होगा कि कप्तान खुद को बल्लेबाजी क्रम में ऊपर उतारकर फार्म हासिल करने का मौका देना पसंद करता है या नहीं। इस बीच राजस्थान रॉयल्स पहले मैच में चार रन की नाटकीय हार के बाद दिल्ली कैपिटल्स की जीत से मिली लय को बढ़ाना चाहेगा।

कप्तान संजू सैमसन ने शुरूआती मैच में शानदार शतक जड़ने के बाद अकेले दम पर लगभग मैच जीता ही दिया था। उनके अलावा जोस बटलर और डेविड मिलर की फार्म टूर्नामेंट में उनकी लय के लिये काफी अहम होगी। राजस्थान की टीम चाहेगी कि उनके बल्लेबाज मिलकर प्रदर्शन करें क्योंकि दिल्ली के खिलाफ उनका शीर्ष क्रम चरमरा गया था जिसके बाद मिलर और क्रिस मौरिस ने उन्हें जीत दिलाई।

अनुभवी तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट ने दिल्ली के खिलाफ शानदार स्पैल फेंका जबकि युवा चेतन सकारिया ने भी उम्मीद जगाई हैं अनुभवी मॉरिस और मुस्तफिजुर रहमान कठिन परिस्थितियों में अहम साबित हो सकते हैं। राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाजों का लक्ष्य शुरूआती झटके देकर चेन्नई सुपर किंग्स के बल्लेबाजों को रन बनाने से रोकने का होगा जो इतने आक्रामक नहीं रहे हैं जबकि उसके बल्लेबाजों को भी अच्छा प्रदर्शन करना होगा। तभी विकेटकीपरों की अगुआई वाली दोनों टीमों के बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिलेगा।

Related Articles

Select Language »