उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

गोरखपुर की सदर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे सीएम योगी

गोरखपुर की सदर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे सीएम योगी एक इतिहास दोहरा रहे हैं। वह दूसरे ऐसे सीएम होंगे, जो गोरखपुर से चुनावी दावेदारी पेश कर रहे हैं। हालांकि इस इतिहास को दोहराते हुए उनके समर्थक और पार्टी के लोग कतई यह नहीं चाहेंगे कि वह इसी इतिहास के परिणाम को भी हासिल करें। क्या है यह पूरा मामला आइए समझते हैं।

असल में साल 1971 में त्रिभुवन नारायण सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए गोरखपुर से चुनाव लड़ा था। उन्होंने यहां की मानीराम विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था। उनकी दावेदारी के वक्त हालात बहुत ही अलग थे। खुद कांग्रेस में दो फाड़ हो चुके थे। इस दो फाड़ के बाद एक धड़ा बना था कांग्रेस (ओ) यानी कांग्रेस संगठन और दूसरा था कांग्रेस (आई)। अब अक्टूबर 1970 में त्रिभुवन नारायण सिंह सीएम तो बने, लेकिन उनके पास न विधानसभा सदस्यता थी और न विधान परिषद की। ऐसे में उन्होंने चुनाव लड़ा। त्रिभुवन नारायण सिंह इस चुनाव में कांग्रेस संगठन के उम्मीदवार थे और उनका मुकाबला था कांग्रेस (आई) के उम्मीदवार रामकृष्ण द्विवेदी से। इस चुनाव में रामकृष्ण द्विवेदी ने त्रिभुवन नारायण सिंह को पराजित कर दिया था। हार के बाद तीन अप्रैल 1971 को त्रिभुवन नारायण सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

Related Articles

Select Language »