देश

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आरोपियों को बरी करने वाले न्यायाधीश को योगी सरकार ने इस पद पर किया नियुक्त

अयोध्या बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री  लाल कृष्ण आडवाणी समेत 32 आरोपियों को बरी करने वाले सीबीआई की विशेष अदालत के पूर्व न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव को उप लोकायुक्त (तृतीय) नियुक्त किया गया है।

उत्तर प्रदेश की  राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की ओर से सुरेंद्र कुमार यादव 6 अप्रैल 2021 को इस पद पर नियुक्त किया गया है।आज 12 अप्रैल को उन्होंने लोकआयुक्त संजय मिश्रा की उपस्थिति में लखनऊ के लोकभवन अपना पदभार ग्रहण किया।

ग़ौरतलब है कि बाबरी मस्जिद का ढांचा 06 दिसंबर 1992 गिराए जाने के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सभी 32 आरोपियों को 30 सितंबर 2020  बरी कर दिया था। अदालत  ने माना था कि घटना अचानक हुई थी। बाबरी विध्वंस कोई सुनियोजित घटना नहीं थी।

यह  फैसला सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने सुनाया था। सुरेंद्र कुमार यादव  माना था कि घटना के पीछे आरोपियों लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री  सिंह आदि का कोई हाथ नहीं था।    

फैसला सुनाने के बाद ही न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव सेवानिवृत्त भी हो गए थे।  सुरेंद्र कुमार यादव को 5 वर्ष  पहले बाबरी विध्वंस केस में स्पेशल जज नियुक्त किया गया था.

उल्लेखनीय है कि सुरेंद्र कुमार यादव 2019 में सेवानिवृत्त हो रहे थे,लेकिन मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए उन्हें 11 महीने का अतिरिक्त समय और दिया गया था। सुरेंद्र कुमार यादव को सिर्फ सेवा विस्तार ही नहीं मिला था, बल्कि बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले के चलते उनका तबादला भी रद्द किया गया था।

एडीजे के तौर पर सुरेंद्र कुमार यादव इस मामले की सुनवाई कर रहे थे। उन्हें पदोन्नति कर ज़िला जज बनाते हुए उनका तबादला बदायूं कर दिया गया था।  लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दखल दिया और मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उनका का तबादला रद्द कर दिया था। 

Related Articles

Select Language »