Uncategorizedउत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशराजनीतिराज्य

सोनिया गांधी के इस कदम के साथ ही मुकुल वासनिक का नाम रेस में आ गया

अगर राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए तैयार नहीं होते हैं तो अगला अध्यक्ष कौन बनेगा? भारतीय राजनीति में दिलचस्पी रखने वाले लोग इस सवाल का जवाब ढ़ंढ रहे हैं। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे का नाम रेस में आगे चल रहा था। इस बीच गुरुवार को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने जेपी अग्रवाल को प्रदेश का प्रभारी बनाकर कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक को उनकी मध्य प्रदेश की जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है। हालांकि, वासनिक को संगठनात्मक पद पर बरकरार रखा गया था।

सोनिया गांधी के इस कदम के साथ ही मुकुल वासनिक का नाम रेस में आ गया है। हालांकि, इस मुद्दे पर एआईसीसी चुप्पी साध रखा है। पार्टी के एक नेता ने कहा, “अगर राहुल गांधी संगठन का चुनाव लड़ने से इनकार करते हैं और अशोक गहलोत भी इच्छुक नहीं होते हैं तो एक स्टैंडबाय व्यवस्था के रूप में नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए मुकुल वासनिक को एमपी के प्रभार से मुक्त किया गया होगा।”

हालांकि एक दूसरे नेता ने कहा, “मुकुल वासनिक को मध्य प्रदेश के प्रभारी के पद से मुक्त कर दिया गया है क्योंकि वह राज्यसभा सदस्य बनने के बाद अपना काम कम करना चाहते हैं। इसके अलावा इसमें कुछ नहीं है।”

Related Articles

Select Language »